Saturday, July 8, 2017

फ़ुर्सत कहाँ कि ख़ुद से कोई बात कर सके 
ये है तरक़्क़ी-याफ़्त: इन्सान आजकल
--------------------------------------------------------------

No comments: