Thursday, March 12, 2009

नमस्कार !
आने में कुछ देर हो गई .....वजह जो भी रही हो, अब जो भी कहूँगा
वो एक बहाना ही लगेगा .......
सब से बड़ा दुश्मन ये कंप्यूटर जिसमे 'हिन्दी में काम'
इसी की मर्ज़ी से ही हो पाता है ।
खैर ! एक ग़ज़ल ले कर हाज़िर हूँ .......
आपकी टिप्पणियाँ हमेशा-हमेशा "प्रेरणा" और "प्रोत्साहन" देती रहेंगी ,
इस का विश्वास है मुझे । . . . . . . .


ग़ज़ल

नाम जब भी आ गया उसका ज़बां पर
फिर कहाँ क़ाबू रहा अश्के - रवां पर

आज भी उस मोड़ पर तनहा खडा हूँ
साथ छोड़ा था मेरा तूने जहाँ पर

वक़्त ने मुझ से सवाल ऐसे किए हैं
एक ख़ामोशी लरज़ती है ज़बां पर

माँगना सब के लिए दिल से दुआएं
कौन जाने , कौन मिल जाए कहाँ पर

दर-हकीक़त दर्द से रिश्ता निभाया
कर लिया दिल ने यकीं जब भी गुमां पर

बर्क़ ! तू लहरा ! ज़रा तो रौशनी दे
क्यूँ नज़र रहती तेरी है आशियाँ पर

कामयाबी अब उसे मिल कर रहेगी
वो नज़र रक्खे हुए है आसमाँ पर

बागबाँ करते हैं ख़ुद कलियों का सौदा
वक़्त कैसा आ पड़ा है गुलसितां पर

मैकशी भी अब दगा देने लगी है
ये सितम इक और जाने-नातवाँ पर

बे-अदब , बे-रब्त , कोई सरफिरा है
तब्सिरा उनका है मेरी दास्ताँ पर

आज फिर इक शख्स सूली पर चढ़ेगा
हैं ख़फ़ा कुछ लोग 'दानिश' के बयाँ पर



-----------------------------------------------

अश्के-रवां= बहते आंसू
बर्क़= आसमानी बिजली
मैकशी=sharaab pina
dagaa=dhokha
जाने-नातवाँ= कमज़ोरजान
बे-अदब=अशिष्ट
बे-रब्त=बे-तुका
तब्सिरा=टिप्पणी
दास्ताँ=कहानी
गुमां=शंका



___________________________________

35 comments:

"अर्श" said...

बे-अदब , बे-रब्त , कोई सरफिरा है
तब्सिरा उनका है मेरी दास्ताँ पर

khub kaha hai aapne... dhero badhaaee...

arsh

योगेन्द्र मौदगिल said...

कामयाबी अब उसे मिल कर रहेगी
वो नज़र रक्खे हुए है आसमाँ पर

बागबाँ करते हैं ख़ुद कलियों का सौदा
वक़्त कैसा आ पड़ा है गुलसितां पर
behtreen.....

badhai......

Harkirat Haqeer said...

आज भी उस मोड़ पर तनहा खडा हूँ
साथ छोड़ा था मेरा तूने जहाँ पर .....accha...?? oye hoye .....!
tadey mai keha Muflish ji tanha tanha kyon rehde ne...?????

Meenakshi Kandwal said...

"आज भी उस मोड़ पर तनहा खडा हूँ
साथ छोड़ा था मेरा तूने जहाँ पर"
मन की गहराइयों तक उतर जाने वाली गज़ल.. खूबसूरत गज़ल हम तक लाने के लिए शुक्रिया!!

manu said...

आज भी उस मोड़ पर तनहा खडा हूँ
साथ छोड़ा था मेरा तूने जहाँ पर

मुफलिस जी,
मैनू ते नहीं कह रहे,,,,,ओ जी तुस्सी वापस घर तो पहुँच गए हो न जी,
या दिल्ली के बस अड्डे से ही पोस्ट कर दी है,,,,,

बे-अदब , बे-रब्त , कोई सरफिरा है
तब्सिरा उनका है मेरी दास्ताँ पर

लाजवाब शेर ,
इतना लाजवाब के मुझे अआपकी पिछली ग़ज़ल के सभी पचास कमेंट दोबारा पढने को मजबूर कर दिया,,,,,
बेमिसाल,,,,
बे-रब्त सरफिरा है तो फिर जाने दिजीये ,
दीजै ना कुछ ध्यान, किसी badjaban पर

Dr.Bhawna said...

Bahut khub...eak se badhakar eak...bahut sari badhai...

रश्मि प्रभा said...

mana der hui aane mein,par kafi durust aaye hain ...
har chhand bejod hai

RC said...

I liked these ashaar a lot. Congrats, very umda composition!

वक़्त ने मुझ से सवाल ऐसे किए हैं
एक ख़ामोशी लरज़ती है ज़बां पर

माँगना सब के लिए दिल से दुआएं
कौन जाने , कौन मिल जाए कहाँ पर

दर-हकीक़त दर्द से रिश्ता निभाया
कर लिया दिल ने यकीं जब भी गुमां पर

बर्क़ ! तू लहरा ! ज़रा तो रौशनी दे
क्यूँ नज़र रहती तेरी है आशियाँ पर

मैकशी भी अब दगा देने लगी है
ये सितम इक और जाने-नातवाँ पर

बे-अदब , बे-रब्त , कोई सरफिरा है
तब्सिरा उनका है मेरी दास्ताँ पर

RC

Vijay Kumar Sappatti said...

jai ho ustaad ji ki
आज भी उस मोड़ पर तनहा खडा हूँ
साथ छोड़ा था मेरा तूने जहाँ पर

iske baad bhi kuch kahna baaki hai kya sir ji

der saari badhai aapko itni achi gazal ke liye

Mumukshh Ki Rachanain said...

कामयाबी अब उसे मिल कर रहेगी
वो नज़र रक्खे हुए है आसमाँ पर

कामयाबी के रूप में कहीं जमीं पर पड़े पत्थर की ठोकर तो नहीं. अरे भाई मंजिल आसमां की ठीक है पर नज़रें तो चारों ओर रहनी चाहिए.

बागबाँ करते हैं ख़ुद कलियों का सौदा
वक़्त कैसा आ पड़ा है गुलसितां पर

अरे भाई कलियों का ही नहीं फूलों तक को भी नहीं छोड़ते अब तो.

कुल मिला कर ग़ज़ल शानदार है

चन्द्र मोहन गुप्त

गौतम राजरिशी said...

अब हम जैसे नाचीज़ किस मुँह से दाद दें मुफ़लिस जी इस बेमिसाल गज़ल पर....बिजलियों को चेतावनी देने वाला ये शायर "बर्क़ ! तू लहरा ! ज़रा तो रौशनी दे / क्यूँ नज़र रहती तेरी है आशियाँ पर" मेरे एक-दो अदने से शेरों की तारीफ़ कर देता है तो मैं सातवें आसमान पर क्यूँ न घूमूँ भला?
और इस मक्ते पर तो "आज फिर इक शख्स सूली पर चढ़ेगा/हैं ख़फ़ा कुछ लोग 'मुफलिस' के बयाँ पर" चचा ग़ालिब भी कबर में वाह-वाह कर रहे हैं।
अभी हाल-फिलहाल ही में पढ़ा आपका एक और शेर याद आया "न रस्मो-राह आपस में न पहली सी मुहब्बत है/नई तहज़ीब पर मुफ़लिस करे अब तब्सिरा कैसा"
हमारी खुशनसीबी है सर कि आपका वरद-हस्त हम पर बना हुआ है...

दर्पण साह 'दर्शन' said...

wah wah.....
chaliyea ek ek karke shuru kiya jaiye....
नाम जब भी आ गया उसका ज़बां पर
फिर कहाँ क़ाबू रहा अश्के - रवां पर
aur ye dekhiyea:
आज भी उस मोड़ पर तनहा खडा हूँ
साथ छोड़ा था मेरा तूने जहाँ पर
(jahan se tum mod mud gaye the wo mod ab bhi wahin pade hain...)

वक़्त ने मुझ से सवाल ऐसे किए हैं
एक ख़ामोशी लरज़ती है ज़बां पर
muflis sir wqut apne aap mein kainchi ki zaban hain...
ya yun kahein kainchi bhi hai aur zaban bhi, apki zaban to kaat deta hai aur apna bloe jata hai.....
...waise apke ek guru ki bhi yaad ho aaie wo bhi to wqut ki tarah hai (aap samaj gaye honge...)
:)

माँगना सब के लिए दिल से दुआएं
कौन जाने , कौन मिल जाए कहाँ पर
haan ispe to tax bhi nahi hai....
:)

कामयाबी अब उसे मिल कर रहेगी
वो नज़र रक्खे हुए है आसमाँ पर
(sar se zayada unchi ho ye nazar aasman bhi to sar ko jhukaiye)

मैकशी भी अब दगा देने लगी है
ये सितम इक और जाने-नातवाँ पर
( brand change karke dekhein , kya pata kuch fayada ho :) )


आज फिर इक शख्स सूली पर चढ़ेगा
हैं ख़फ़ा कुछ लोग 'मुफलिस' के बयाँ पर
(ghazal ki sabse acchi line)

mein to ashriyachakit hoon hamesha ki tarah.....
...na jane kya baat hai ki ap kog itna accha kaise likh lete hai....
..agar koi ghutti ya ark ho to humein bhi bataiyen...
..."rooh afza nazm" !!!!! wakai!!
apki blogs main comments karne ka isliyea man nahi karta kyunki shabd kosh 'anant' nahi hai....
lekin apki ghazal ke dimention....
...aayam.....
anant !! paralokik !!!

bhootnath( भूतनाथ) said...

बाप रे बाप....आप तो जैसे नाम के ही मुफलिस हो.....बाकी जो-जो आप लिखते रहते हो.....वो तो किसी सेठ का अहसास ही कराता है....उपरवाला आप पर शब्दों की ऐसी ही बरसा बरसाता रहे.....और आप जैसे जहीन लोगों से हम भी कुछ कुच्छ हमेशा सीखते ही रहें,.....!!

दिगम्बर नासवा said...

आज फिर इक शख्स सूली पर चढ़ेगा
हैं ख़फ़ा कुछ लोग 'मुफलिस' के बयाँ पर

बहुत खूब मुफलिस भाई
क्या लिखते हैं आप.......हर शेर अलग अलग andaaj का, लाजवाब है
आपने कहा "देर लगी आने मैं......पर मैं kahunga "shukr है आप आये तो"
varna इतनी खूबसूरत गज़ल kahan से padhte

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

भई मुफलिस जी, हरकीरत जी की टिप्पणी को ही हमारी टिप्पणी समझा जाए.......

hem pandey said...

'कामयाबी अब उसे मिल कर रहेगी
वो नज़र रक्खे हुए है आसमाँ पर'
- सकारात्मक सोच.

Dr. Amar Jyoti said...

'बेअदब, बेरब्त…'
बहुत ख़ूब!
बधाई।

कंचन सिंह चौहान said...

आज भी उस मोड़ पर तनहा खडा हूँ
साथ छोड़ा था मेरा तूने जहाँ पर

bahut khoob

नीरज गोस्वामी said...

बर्क़ ! तू लहरा ! ज़रा तो रौशनी दे
क्यूँ नज़र रहती तेरी है आशियाँ पर

हुजूर की महफिल में देर से आने की मुआफी चाहता हूँ...आपने जब ग़ज़ल पोस्ट की तब तक होली का रंग जो चढा हुआ था आँखों पर इसलिए नज़र ही नहीं आयी...उम्मीद है आप मेरी इस गुस्ताखी को नज़र अंदाज़ कर देंगे...दरअसल नुक्सान मुझे ही हुआ जो इतनी खूबसूरत ग़ज़ल से इतने दिनों तक दूर रहा..हर शेर तालियाँ बजाने को मजबूर करता है...और जो ऊपर मैंने लिखा है वो तो जनाब मुद्दत तक साथ रहेगा...बहुत बहुत बधाई आपको इस नायाब ग़ज़ल के पेश करने पर...
नीरज

Priyanka Singh said...

very nice .... need to learn from u ... thanks for your comments...

vimi said...

wakt ne ....zabaaan par!
zidagi to hai hi aisi -
beautiful expression of such a delicate emotion

अनुपम अग्रवाल said...

बे-अदब , बे-रब्त , कोई सरफिरा है
तब्सिरा उनका है मेरी दास्ताँ पर

जी सही फरमाया आपने .
सोच समझ कर तब्सिरा कर रहे हैँ .
मैने भी कहीँ सुना था:--


वाकिफ हैँ उनसे और एक उनकी ज़फा से हम
फिर भी खुदा से मांग रहे हैँ उन्ही को हम

RAJ SINH said...

kamyabee ab use milkar rahegee......
vo nazar rakhe huye hai aasman par.

kya kah gaye hain aap.....

log to shayad aasmanon me soonapan hee pate hain .

aapkee tarz-e-bayan ka kaayal hoon.-raj

kumar Dheeraj said...

काफी दिनों के बाद ये गजल पढ़ने को मिला । गजल का हर मतला बढ़िया है शुरूआत काफी अच्छी लगी धन्यवाद

मोना परसाई "प्रदक्षिणा" said...

बागबाँ करते हैं ख़ुद कलियों का सौदा
वक़्त कैसा आ पड़ा है गुलसितां पर
bahut khub....badhaaee

abdul hai said...

नाम जब भी आ गया उसका ज़बां पर
फिर कहाँ क़ाबू रहा अश्के - रवां पर


bahut khub....umda hai

अरविन्द श्रीवास्तव said...

आज फिर इक शख्स सूली पर चढ़ेगा..., खूब, बधाई स्वीकारें ।

Santhosh said...

hi......ur blog is full of good stuffs.it is a pleasure to go through ur blog...

by the way, which typing tool are u using for typing in Hindi...? recently i was searching for the user friendly Indian language typing tool and found ... " quillpad " do u use the same...?

heard that it is much more superior than the Google's indic transliteration...!?

expressing our views in our own mother tongue is a great feeling...save, protect,popularize and communicate in our own mother tongue...

try this, www.quillpad.in

Jai..HO....

Harsh pandey said...

blog par pahali baar aaya hoo... bahut achcha laga ... post achchi hai

प्रकाश बादल said...

मुफलिस जी आपकी ग़ज़लें उफ्फ्फ्फ्फ क्या कहर ढाती हैं। आपके ख़्याल इस तरह सज-धज कर आते हैं, उफ्फ्फ्फ्फ्फ, मेरे ख़्याल ऐसे क्यों नहीं है ईर्ष्या हो रही है।

SWAPN said...

ek se badhkar ek lajawaab sher, sabhi tareef ke kabil. bahut mubaarak.

ilesh said...

wonderful....umda gazal

SagarSialkoti said...

app ka matla accha laga

Vidhu said...

सच कहा आपने..... कैसी कैसी बंदिशों में पल रहा है आदमीजल रहा है , क्यूं निरंतर जल रहा है आदमी

Rajat Narula said...

awesome composition...